BIG BREAKING-रिकार्ड में 22 स्कूली बच्चे अध्ययनरत… मौके पर नहीं मिले एक भी बच्चे। पामगढ़ क्षेत्र के गुुड़ीपारा मुलमुला स्थित शासकीय प्राइमरी स्कूल का मामला…

0
45

हरि अग्रवाल@ जांजगीर-चांपा। पामगढ़ विकासखंड क्षेत्र के ग्राम मुलमुला में बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आया है। यहां के गुड़ीपारा स्थित प्राइमरी स्कूल में बच्चों की दर्ज संख्या 22 है। बताया जा रहा है आज प्राइमरी स्कूल की परीक्षा थी, लेकिन जब केंद्राध्यक्ष रविन्द्र सिंह जांच करने पहुंचे तो एक भी परीक्षार्थी मौजूद नहीं थे। खास बात यह है कि सालों से इन बच्चों के नाम मध्यान्ह भोजन सहित कई सुविधाएं मुहैया कराई जा रही है, जिसे कौन हजम कर रहा है यह सोचकर सभी हैरान है। इस पूरे मामले में बीईओ ने जांच के निर्देश दिए हैं।

सरकार स्कूलों की हालत सुधारने पानी की तरह पैसे बहा रही है लेकिन इन पैसों का किस तरह दुरूपयोग किया जा रहा है इसकी बानगी मुलमुला के एक सरकारी स्कूल में देखी जा सकती है। बताया जा रहा है मुलमुला के गुड़ीपारा में शासकीय प्राइमरी स्कूल है। यहां कक्षा एक से लेकर पांच तक की कक्षाओं में बच्चों की दर्ज संख्या 22 है। आज प्राइमरी स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों की परीक्षा थी। परीक्षा का जायजा लेने केंद्राध्यक्ष रविन्द्र सिंह स्कूल पहुंचे, तब वहां एक भी परीक्षार्थी मौजूद नहीं थे। यह देखकर केंद्राध्यक्ष भी हैरान रह गया। जब उन्होंने शिक्षक सहित ग्रामीणों से बात की तो कई चौकाने वाली बात सामने आई। केंद्राध्यक्ष रविन्द्र सिंह ने परीक्षा में एक भी परीक्षार्थी मौजूद नहीं होने का प्रतिवेदन बनाकर पामगढ़ बीईओ शालिग्राम रत्नाकर को सौंप दिया। इधर, बीईओ ने इस पूरे मामले में जांच टीम बैठा दिया है।

कौन खा गए मध्यान्ह भोजन

बताया जा रहा है इस स्कूल में दो शिक्षक पदस्थ हैं, जिन्होंने बच्चों के पालकों का पलायन करने की जानकारी शिक्षा विभाग के अफसरों को नहीं दी। कहा यह भी जा रहा है कि स्कूल में पदस्थ शिक्षकों ने पलायन करने वाले पालकों के बच्चों का फायदा उठाकर शासन से मिलने वाले मध्यान्ह भोजन सहित अन्य सुविधाएं हजम करते रहे। अब जांच से स्पष्ट हो जाएगा कि आखिर शासन से संबंधित स्कूल के बच्चों ंके लिए प्रदाय सारी सुविधाएं कहां गई और दर्ज संख्या कम होने या दर्ज संख्या शून्य होने की जानकारी शिक्षकों ने आखिर क्यों नहीं दी।

जांच के दिए निर्देश
एक साथ सभी परीक्षार्थियों का गायब होना हैरान करने वाली बात है। पता चला है कि स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों के पालक पलायन कर गए हैं लेकिन एक साथ सभी बच्चों के पालक पलायन नहीं कर सकते। मामले में जांच के निर्देश दिए हैं। जांच रिपोर्ट के बाद ही पूरा मामला स्पष्ट हो पाएगा।
-शालिग्राम रत्नाकर, बीईओ पामगढ़

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here