साहित्य श्री’ सम्मान से नवाजे जाएंगे विजय राठौर

जांजगीर -चांपा। शहर के वरिष्ठ साहित्यकार विजय राठौर को आगामी 13 अक्टूबर को अखिल हिंदी साहित्य सभा, नासिक (महाराष्ट्र) के द्वारा ‘साहित्य श्री’ सम्मान से सम्मानित किया जायेगा। इस पुरस्कार के लिए विजय राठौर की किताब ‘संबंधो में चीनी कम है’ का चयन 7 अगस्त को अहिसास संस्थान द्वारा किया गया।

इस सम्मान में स्मृति चिन्ह, शाल, सम्मान पत्र तथा श्रीफल प्रदान किया जायेगा। इससे पहले भी उनकी कई किताबों को पुरस्कार प्रदान किया जा चुका है। उनकी दो किताबें रिश्तों की तुरपाई हो एवं दोहा संग्रह प्रकाशनाधीन है। गौरतलब है विजय राठौर साहित्य की हर विधा में अपनी कलम चलाते रहते हैं। उनकी 25 से ज्यादा किताबें प्रकाशित हो चुकी हैं। वे नई पीढ़ी का नियमित मार्गदर्शन करते रहते हैं। जांजगीर की साहित्य विरासत को आगे बढ़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ते हैं। इसके पहले भी उन्हें राष्ट्रीय विश्व हिंदी सहस्त्राब्दी, सुभद्रा कुमारी चौहान स्मृति जन्म शताब्दी, लक्ष्मी नारायण दुबे स्मृति, फ्रेण्डशिप फोरम आफ इंडिया, भारतेंदु हरीश्चंद हिंदी भूषण, काफ्ला इंटरनेशनल, सारस्वत साहित्य शिरोमणि, सारस्वत सम्मान, काव्य कलाधर सम्मान मिल चुका है। इस उपलब्धि से शील साहित्य परिषद के अध्यक्ष विजय दुबे, ईश्वरी यादव, कवि संगम के राष्ट्रीय मंत्री महेश शर्मा, प्रांतीय मंत्री दिनेश चतुर्वेदी, बलदेव शर्मा, संतोष कश्यप, प्रमोद आदित्य, सतीश सिंह, भैयालाल नागवंशी, सुरेश पैगवार, आनंद पांडेय, दयानंद गोपाल, अंकित राठौर, उमाकांत टैगोर, पुनिता दरियाना, श्रद्धा महंत, डुगेन्द्र शुक्ला, गौरव राठौर सहित समस्त साहित्यकारों में हर्ष है।

Related posts

Leave a Comment