महात्मा गांधी की प्रासंगिता विषय पर संगोष्ठी हुई

0
32

जांजगीर-चांपा। राष्ट्रपिता महात्मागांधी की 150वीं जन्म वर्ष समारोह एवं राष्ट्रीय सेवा योजना स्वर्ण जयंती वर्ष कार्यक्रम की श्रृंखला में 21वीं सदी की चुनौतियां एवं महात्मा गांधी की प्रासंगिकता विषय पर एक दिवसीय राष्ट्रीय अंतर्विषयक शोध संगोष्ठी का आयोजन केन्द्रीय गांधी स्मारक निधि, राजघाट नई दिल्ली के मार्गदर्शन में हुआ।

कार्यक्रम के मुख्य अतिथि संजय सिंह राष्ट्रीय सचिव केन्द्रीय गांधी स्मारक निधि नई दिल्ली थे। अध्यक्षता प्रो. बीके पटेल आयोजक प्राचार्य एवं जिला संगठक रासेयो ने की। विशिष्ट अतिथि अरूण झाझडि़या अध्यक्ष, सर्वांगीण विकास शिक्षण समिति, मनोज मित्तल सदस्य प्रशासकीय समिति, डॉ. आनन्दमूर्ति मिश्रा प्रध्यापक नृतत्व विज्ञान एवं जनजातिय अध्ययन शाला बस्तर विश्वविद्यालय जगदलपुर, प्रो. शैलेष मिश्रा विभागाध्यक्ष अंग्रेजी, शासकीय सीएलसी महाविद्यालय पाटन दुर्ग विश्वविद्यालय, डॉ. जीएल तलवरे, सिवनी (मप्र) तथा संतराम थवाईत गांधीवादी विचारक कबीरधाम थे। अतिथियों का माल्यार्पण, राष्ट्रीय सेवा योजना बैज तथा गांधी खादी माला पहनाकर स्वागत किया गया। इसके पूर्व मंचस्थ अतिथियों ने मां सरस्वती, भारत माता, राष्ट्र पिता महात्मा गांधी तथा स्वामी विवेकानन्द की प्रतीमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्वलन कर राष्ट्रीय संगोष्ठी कार्यक्रम का शुभारंभ किया। श्री कृष्ण संगीत महाविद्यालय के प्राचार्य वेदराम यादव एवं साथियों ने इस अवसर पर महात्मा गांधी का प्रिय भजन वेष्यव जन ते ने कहिए जे पीर पराई जाणि रे एवं रघुपति राघव राजा राम की संगीतमय प्रस्तुति देकर आध्यात्मिक वातावरण का निर्माण किया। इस दौरान सभी अतिथियों ने कार्यक्रम के संबंध में विस्तार से प्रकाश डाला।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here