बापू के हत्यारे गोडसे के नाम से चौक बनाने का मामला एकबार फिर चांपा में गरमाया…

0
368

जांजगीर-चांपा। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे गोडसे के नाम से यदि चौक बनाने नगरपालिका परिषद में प्रस्ताव पारित कर दिया जाए तो इसे आप क्या कहेंगे। चौकिए नहीं यह सही है। हालांकि यह मामला काफी पुराना है लेकिन अभी नगरपालिका चुनाव के नजदीक आते ही यह मामला फिर से गरमाने लगा है।

उल्लेखनीय है कि छत्तीसगढ़ में अभी नाथुराम गोडसे का मामला काफी गरमाया हुआ है। खुद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस मुद्दे को लेकर विपक्ष को घेरा था। ऐसे में चांपा नगरपालिका का यह मामला सामने आने के बाद भाजपा और कांग्रेस सवालों के घेरे में है। इस मामले में जब एक स्वतंत्र पत्रकार ने नगरपालिका अध्यक्ष राजेश अग्रवाल से बात की तो अध्यक्ष ने गोडसे के बजाय गाडसे नाम से प्रस्ताव पारित होने का हवाला देकर चलता कर दिया, जबकि वास्तव में गाडसे नामक किसी भी शख्स की जानकारी अधिकांश लोगों को नहीं है। आपकों बता दें कि 26 अप्र्रैल 2002 को नगपालिका परिषद की एक बैठक हुई, जिसमें कंडिका क्रमांक 04 में आरके मेडिकल के सामने चौक का नाम बदलकर गाडसे अंग्रेजी में गोडसे करने का प्रस्ताव पारित हुआ था। जानकारी के अनुसार उस समय नगरपालिका में भाजपा के अनुपम श्रीवास्तव अध्यक्ष थे। तो वहीं कांग्रेस विपक्ष में था। लोगों का कहना है कि उस समय जब यह प्रस्ताव पारित हुआ तो कांग्रेस विपक्ष में था और वर्तमान नपाध्यक्ष उस समय पार्षद थे। लोगों का यहां तक कहना है कि अभी जब नगरपालिका में कांग्रेस की सरकार है तो भी परिषद की बैठक आयोजित कर उक्त प्रस्ताव को शून्य घोषित नहीं किया गया। इससे नपा के जनप्रतिनिधि एकबार फिर कटघरे में है। यही वजह है कि इस बार भाजपा व कांग्रेस के बजाय चांपा में निर्दलीय अध्यक्ष की हवा चलने लगी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here