चांपा में संचालित 30 सीटर बीडीएम हास्पिटल अब होगा 50 बिस्तर – सिंहदेव

0
192

जांजगीर-चांपा..  छत्तीसगढ़ शासन के पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री एवं जिले के प्रभारी  टीएस सिंहदेव ने स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा करते हुये कहा कि राज्य सरकार द्वारा स्वास्थ्य सुविधा को बेहतर बनाने के लिये पर्याप्त राशि उपलब्ध करायी जा रही है। आवश्यकतानुसार दवाईयों की खरीदी और निजी चिकित्सकों की भी सेवाएं ली जा सकती है। स्वास्थ्य केन्द्रों को शत-प्रतिशत सुविधायुक्त बनाने के लिये प्रयास किया जा रहा है।

प्राथमिकता के आधार पर पहले जिला अस्पताल फिर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र को शत-प्रतिशत सुविधायुक्त किया जायेगा। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा उपलब्ध करायी गयी सुविधाओं का लाभ मरीजों को मिलना चाहिये। अनुपयोगी मशीनों की जानकारी प्रति सप्ताह कारण सहित सचिवालय में उपलब्ध कराने के लिये जिला चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिये। चांपा के 30 बिस्तर बीडीएम हास्पिटल को 50 बिस्तर करने की सहमति दी। इस संबंध में संबंधित अधिकारियों को आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिये। इसी प्रकार सक्ती में नवनिर्मित शिशुमातृत्व हास्पिटल को शीघ्र प्रारंभ करने के निर्देश दिये।

समीक्षा बैठक में जिले के खोखसा और चांपा में बनाये जा रहे रेल्वे ओव्हरब्रिज के विलंब से जनप्रतिनिधियों ने अवगत कराया। प्रभारी मंत्री ने कहा कि ओव्हरब्रिज के पूर्ण होने में आ रही दिक्कतों के निराकरण के लिये राज्य व केन्द्र स्तर पर प्रयास किया जायेगा। साथ ही ओव्हरब्रिज निर्माण के कारण आवागमन में हो रही दिक्कतों के निराकरण के लिये संबंधित अधिकारियों को तत्काल सड़क मरम्मत करने को कहा।
प्रभारी मंत्री ने शिक्षा विभाग की समीक्षा करते हुये कहा कि कोई भी स्कूल शिक्षकविहीन न रहे। स्थानांतरण नीति का कड़ाई से पालन किया जाये। महिला एवं दिव्यांग शिक्षकों को सुविधा अनुसार पदस्थापना का प्रयास किया जाये।

शिक्षकों को अन्य विभाग मंे संलग्न न करें। श्री सिंहदेव ने कहा कि शासन की मंशानुसार हर घर नल से पानी दिया जायेगा। इसके लिये कार्य योजना तैयार कर प्रस्ताव राज्य शासन को भेजने के निर्देश दिये। प्रभारी मंत्री ने लोक निर्माण विभाग की समीक्षा करते हुये कहा कि क्वालिटी से काम्प्रोमाईस बर्दास्त नहीं की जायेगी। जनप्रतिनिधियों और आम जनता के सुझावों  पर भी अमल करें। पुराने निर्माण कार्यो के मरम्मत कार्य को भी प्राथमिकता से पूर्ण करें। प्रभारी मंत्री ने कहा कि जांजगीर-चांपा जिला रेशम कारीगरी के लिये प्रसिद्ध है। कारीगरों के जीवन स्तर सुधारने के लिये लगातार प्रयास किया जा रहा है। इस हेतु कारीगरों को कच्चा माल निरंतर उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। ताकि जिले में निर्मित रेशमी कपड़ों की पहचान अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हो सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here