चंद्रपुर सीएमओ मामले ने पकड़ा तूल, सीएमओ के आवेदन पर पुलिस ने नहीं की कार्रवाई, एसपी को दिया आवेदन, झूठी शिकायत पर सीएमओ के घर पुलिस का छापा मामला

0
220

जांजगीर-चांपा। चंद्रपुर सीएमओ के घर आधी रात पुलिस का छापा मामला अब तूल पकड़ने लगा है। पुलिस ने पहले झूठी शिकायत पर नगर पंचायत चंद्रपुर के सीएमओ के छापा मारा, फिर तथ्य नहीं मिलने के बावजूद पुलिस उन्हें रात को ही थाना ले गई। लेकिन जब सीएमओ ने मामले में झूठी शिकायत करने वाले के खिलाफ कार्रवाई के लिए आवेदन दिया, तो पुलिस को सांप सुघ गया। सीएमओ ने पूरे मामले की शिकायत एसपी से करते हुए कार्रवाई की मांग की है।

आपकों बता दें कि चंद्रपुर नगर पंचायत के सीएमओ मुन्नालाल देवांगन ने हाल ही में कैशियर हरीश साहू को संस्पेंड किया था। हरीश साहू पर फर्जी नियुक्ति और नपं के चेक को गलत मंशा से अपने कब्जे में रखने का आरोप था। सीएमओ के मुताबिक, हरीश साहू की झूठी शिकायत पर चंद्रपुर थाने के एसआई ने एक अन्य स्टाफ के साथ शनिवार की रात करीब 10.30 बजे उनके घर में दबिश दी और शिकायत की जांच की। शिकायत झूठी होने के बावजूद एसआई ने उन्हें थाना बुलवाया और सीएमओ का डॉक्टरी मुलाहिजा कराया, तब डॉक्टर ने अलकोहल की पुष्टि नहीं की। ऐसे में सीएमओ ने झूठी शिकायत करने वाले हरीश साहू के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने थाने में लिखित आवेदन प्रस्तुत किया। लेकिन चार दिन गुजर जाने के बाद भी पुलिस झूठी शिकायत करने वाले के खिलाफ किसी तरह की कार्रवाई नहीं कर सकी है। प्रदेश के डीजीपी जब प्रदेश भर में पुलिस की छवि सुधारने में जुटे हैं तो वहीं चंद्रपुर पुलिस अपने हरकतों से बाज नहीं आ रही है। एक सीएमओ के साथ पुलिस का ऐसा व्यवहार हो सकता है तो आम लोगों के साथ क्या होगा समझा जा सकता है। सीएमओ का आरोप है कि झूठी शिकायत पर पुलिस ने तत्काल संज्ञान लिया, जबकि उनकी शिकायत पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। उनका कहना है कि इस पूरे मामले में एएसपी ने उन्हें निष्पक्ष कार्रवाई का भरोसा दिलाया है।

तो जाएंगे न्यायालय
पुलिस ने नगर पंचायत चंद्रपुर के एक ऐसे संस्पेड कर्मचारी की झूठी शिकायत पर सीएमओ के यहां छापा मारा, जिस पर कई तरह के गंभीर आरोप है। इन्हीं गंभीर आरोप की वजह से उस कर्मचारी को संस्पेंड किया गया है। सीएमओ का कहना है कि एक इज्जतदार शहरी के यहां बगैर सर्च वारंट व सक्षम आदेश के पुलिस ने छापा मारकर न केवल उनकी छवि धूमिल की है, बल्कि शराबखोरी का झूठा आरोप लगाकर उनके दामन को दागदार कर दिया है। पुलिस के इस कृत्य से उनकी छवि काफी धूमिल हुई है। इसके बाद भी पुलिस मामले में कार्रवाई नहीं कर रही है। हालांकि अभी चंद्रपुर पुलिस व झूठी शिकायत करने वाले के खिलाफ अपराध दर्ज कर न्यायालय में अभियोग पत्र पेश करने का आवेदन दिया गया है। इसके बाद भी पुलिस संज्ञान नहीं लेती है तो वो न्यायालय की शरण लेंगे।

नहीं बख्शा जाएगा
सीएमओ मामले में कार्रवाई जरूर की जाएगी। पता चला है कि पुलिस को झूठी शिकायत करने वाला हरीश साहू फरार है। पुलिस को मोहरा बनाकर अपना उल्लू सीधा करने वाले को किसी भी सूरत में बख्शा नहीं जाएगा।
-मधुलिका सिंह, एएसपी जांजगीर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here