गाव के बीचो-बीच सजी बारूद की दुकानें, पटाखा व्यवसायी शासन के आदेशों की उडा रहे धज्जियां

0
29

बम्हनीडीह। दीपावली का त्योहार आते ही गाव में सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र के सामने पटाखों की आधा दर्जन दुकानें खुल गयी है।ं दुकानों में अग्निशमन विभाग से अनापत्ति प्रमाण पत्र भी नहीं लिया गया है।

प्रत्येक वर्ष की तरह इस साल भी बाजार में कई पटाखों की दुकान खुल गयी है। ऐसे पटाखों की दुकानों में अग्नि से बचाव को लेकर कोई व्यवस्था नहीं की गयी है चांपा बिर्रा मेन रोड में होटल के समीप ही पटाखे की दुकान खुली है, जो कभी भी घटना का सबब बन सकता है। जहां पर पटाखों की दुकाने खुली है उसके दोनो ओर महज सौ मीटर के अन्तराल मे दो-दो होटल संचालित है। ऐसे तो आज तक कोई घटना नहीं हुई, फिर भी सुरक्षा के ख्याल से होटलों के समीप दुकान खुले हैं. प्रशासन की ओर से इस तरह खुले दुकानों की जांच नहीं की जाती है। इसके कारण बिना किसी भय के दुकान चला रहे है। आपकों बता दें कि एक्सप्लोजिव एक्ट 2008 के मुताबिक पटाखा दुकान टीन के शैड वाले दुकान मे लगाना है। अस्थाई पटाखा दुकानों में एक शैड से दूसरे शैड के बीच तीन मीटर की दूरी रखी जाएगी। वहीं किसी भी संरक्षित स्थल से 50 मीटर की दूरी रखी जाएगी। शैड आमने-सामने नहीं खुलेंगे। इसमें तेल गैस से जलने वाले लैंप खुली लौ का प्रयोग वर्जित रहेगा। रोशनी के लिए उपयोग में लिए जाने वाले बिजली उपकरणों को दीवार में फिक्स करना होगा एवं नियंत्रण के लिए मास्टर स्विच रखना होगा। नियमों की पालना नहीं करने पर एसडीएम को नियमानुसार कार्रवाई का अधिकार है।

क्या कहते हैं जिम्मेदार

चांपा के एसडीएम राहुल देव ने कहा कि तहसीलदार को भेज कर जांच करवा लेते है। नियम के खिलाफ दुकाने लगी पाई गई तो कार्यवाही कि जायेगी। बम्हनीडीह थाना प्रभारी रामकुमार साव का कहना है कि मौके पर जाकर जांच की जाएगी। अगर अग्निशमन गाड़ी या आग बुझाने की पर्याप्त सामग्री नहीं होती है उच्च अधिकारियों से मार्गदर्शन ले कर उचित की जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here