खबर छपने के बाद बीमार बेटी का हुआ एमआरआई, कमर के पास नस में हो गया ट्यूमर, रायपुर में होगा उपचार, लाचार पिता ने मीडिया को दिल से दिया धन्यवाद

0
83

जांजगीर-चांपा। बीते डेढ़ माह से लाचार पिता बच्ची का एमआरआई कराने चांपा से रायपुर का खाक छान रहा था, लेकिन उसकी सुनने वाला कोई नहीं था। इधर, दिनोंदिन बच्ची की हालत बिगड़ रही है। ऐसे में जब हमनें इस पूरे मामलेे का प्रकाशन किया, तब प्रशासन हरकत में आया। यहां तक डॉक्टरों की टीम न केवल उसके घर पहुंची, बल्कि बच्ची का एमआरआई भी हो गया। अब बीमार बच्ची का इलाज शुरू हो जाएगा।

आपकों बता दें कि जिला मुख्यालय जांजगीर के समीपस्थ ग्राम सरखों निवासी धनंजय राठौर बीते डेढ़ माह से अपनी तीन वर्षीय बेटी नीलिमा राठौर का एमआरआई कराने गलियांे की खाक छान रहा था। जब लाचार पिता ने हमारी टीम से संपर्क कर गुहार लगाई, तब हमनें इस मामले को प्राथमिकता से प्रकाशित किया। खबर प्रकाशन के बाद सुमित फाउंडेशन जीवनदीप रायपुर के सीईओ रविन्द्र क्षत्रिय ने पीडि़त पिता से संपर्क किया और उन्होंने अपने कर्मचारी शैलेन्द्र रात्रे के जरिए गंगा डायग्नोसिस्ट रायपुर में नीलिमा राठौर का एमआरआई कराया। आपकों बता दें कि लाचार पिता बच्ची का एमआरआई कराने पखवाड़े भर से चक्कर काट रहा था। बगैर एमआरआई के डॉक्टर इलाज शुरू नहीं कर पा रहे थे। डॉक्टरों के मुताबिक बच्ची के कमर की नस में ट्यूमर हो गया है। इस वजह से उसके कमर के नीचे का हिस्सा पूरी तरह शून्य है। इधर, खबर प्रकाशन के बाद बीमार बच्ची के घर लगातार डॉक्टर पहुंच रहे हैं। कहा जा रहा है बच्ची का इलाज एम्स रायपुर में होगा। इधर, बच्ची के पिता धनंजय राठौर का कहना है कि इतने दिनों तक एमआरआई के लिए भटक रहा था लेकिन उसकी गुहार सुनने वाला कोई नहीं था। लेकिन खबर प्रकाशन के बाद उसकी बच्ची का एमआरआई हो गया। अब उसका इलाज प्रारंभ हो जाएगा। उसने मीडिया को दिल से धन्यवाद दिया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here