केन्द्रीय विद्यालय के प्रभारी प्राचार्य ने मेडिकल रूम में डाला डेरा, प्राचार्य की मनमानी से अभिभावकों में रोष, क्षे़त्रीय कार्यालय में शिकायत…

0
36

जांजगीर-चांपा. केन्द्रीय विद्यालय जांजगीर के प्रभारी प्राचार्य विजय प्रकाश राम की मनमानी चरम पर है। बिलासपुर से प्रतिनियुक्ति पर यहां पहुंचे प्रभारी प्राचार्य वेतन के अतिरिक्त केन्द्रीय विद्यालय संगठन से प्रतिमाह रहने-खाने का भत्ता तो ले रहे हैं, लेकिन किराए के आवास में रहने के बजाय उन्होंने विद्यालय के मेडिकल रूम में ही अपना डेरा डाल रखा है। मेडिकल रूम में उनके सारे सामान रखे हुए हैं, जहां विद्यालय के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों द्वारा रोजाना उनके लिए भोजन एवं नाश्ता आदि भी बनाया जा रहा है, जिसके चलते विद्यार्थियों को मेडिकल रूम का लाभ नहीं मिल रहा है। वहीं विद्यालय में अव्यवस्था निर्मित हो रही है।

जानकारी के अनुसार, केन्द्रीय विद्यालय संगठन के क्षेत्रीय कार्यालय ने केन्द्रीय विद्यालय बिलासपुर में पदस्थ वरिष्ठ शिक्षक विजय प्रकाश राम को कुछ माह पहले प्रतिनियुक्ति पर केन्द्रीय विद्यालय जांजगीर में प्रभारी प्राचार्य के रूप में पदस्थ किया है। प्रतिनियुक्ति के चलते केन्द्रीय विद्यालय संगठन द्वारा प्रभारी प्राचार्य को वेतन के अतिरिक्त प्रतिमाह रहने-खाने का भत्ता भी प्रदान किया जा रहा है। बताया जा रहा है कि प्रभारी प्राचार्य का जितना वेतन है, उतना ही भत्ता प्रतिमाह उन्हें संगठन से मिल रहा है। यहां तक तो सब ठीक है, लेकिन अपनी पदस्थापना के बाद से ही प्रभारी प्राचार्य ने केन्द्रीय विद्यालय के भवन को ही अपना आशियाना बना रखा है। बताया जा रहा है कि जब से यहां उनकी पदस्थापना हुई है, तब से वे विद्यालय के मेडिकल कक्ष में अपना डेरा जमाए हुए हैं, जबकि विद्यालय में मेडिकल कक्ष की स्थापना विद्यार्थियों को आपातकालीन चिकित्सा का लाभ देने के मकसद से की गई है। इसके बावजूद प्रभारी प्राचार्य उस कक्ष में कुंडली मारे बैठे हैं।

बताया यह भी जा रहा है कि शहर में किराए का मकान लेने के बजाय प्रभारी प्राचार्य विद्यालय के मेडिकल रूम में ही रहकर अपनी ड्यूटी कर रहे हैं, जिससे उन्हें किराए बतौर रकम खर्च नहीं करना पड़ रहा है। इसके अलावा विद्यालय के चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी ही उसी कक्ष में उनके लिए भोजन एव ंनाश्ता आदि बनाते हैं, जिसके लिए इंडक्शन कुकर उपयोग में लाए जाने की बात सामने आ रही है। इससे अतिरिक्त बिजली की खपत हो रही है, जिसके बिल का भुगतान स्कूल प्रबंधन को करना पड़ रहा है।

आपको बता दें कि केन्द्रीय विद्यालय संगठन की ओर से प्रभारी प्राचार्य को वेतन के अतिरिक्त प्रतिमाह भारी भरकम राशि रहने-खाने के लिए भत्ते के रूप में प्राप्त हो रही है। इसके बावजूद प्रभारी प्राचार्य द्वारा नियम-कायदों को ताक पर रखकर विद्यालय के मेडिकल कक्ष में डेरा जमाना समझ से परे है। बताया यह भी जा रहा है कि प्रभारी प्राचार्य की मनमानी से अभिभावकों में खासा आक्रोश है। अभिभावकों ने प्राचार्य की मनमानी सहित अन्य बिन्दुओं को लेकर केन्द्रीय विद्यालय संगठन के क्षेत्रीय कार्यालय में शिकायत भी की है।

जानकारी छिपाने का आरोप

केन्द्रीय विद्यालय जांजगीर में प्रभारी प्राचार्य के रूप में जब से विजय प्रकाश राम की पदस्थापना हुई है, तब से इस विद्यालय का माहौल खराब हो गया है। अभिभावकों का आरोप है कि प्रभारी प्राचार्य के निर्देश पर विद्यालय के जिम्मेदार शिक्षकों एवं विभाग प्रमुखों द्वारा जरूरी सूचनाएं छिपाई जा रही है। अभिभावकों का कहना है कि केन्द्रीय विद्यालय संगठन द्वारा नए सत्र की प्रवेश प्रक्रिया तथा चालू सत्र की वार्षिक परीक्षा को लेकर कई दिनों पहले आवश्यक दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं, लेकिन इस जरूरी जानकारी को भी केन्द्रीय विद्यालय प्रबंधन द्वारा अभिभावकों को देना मुनासिब नहीं समझा जा रहा है, जिससे अभिभावक परेशान हैं। इस मामले की शिकायत भी केन्द्रीय विद्यालय संगठन के विभिन्न कार्यालयों में की गई है।

कागजों में चल रहा पीटीए

केन्द्रीय विद्यालय जांजगीर की शैक्षणिक समेत सभी गतिविधियों को बेहतर बनाने के मकसद से चालू शैक्षणिक सत्र में कलेक्टर डाॅ. एस भारतीदासन के निर्देश पर तत्कालीन डिप्टी कलेक्टर अनुपम तिवारी की उपस्थिति में चुनाव प्रक्रिया अपनाकर अभिभावक-शिक्षक संघ का गठन किया गया है। बताया जा रहा है कि पीटीए के गठन के बाद केवल एक बैठक हुई है, जिसमें रखे गए एजेंडों पर विद्यालय प्रबंधन ने अब तक कोई कार्यवाही नहीं की है। यदि कार्यवाही की भी है तो उसकी जानकारी पीटीए के अभिभावक पदाधिकारियों को देना मुनासिब नहीं समझा गया है। पीटीए के पदाधिकारियों का कहना है कि आगामी कार्ययोजना को लेकर पीटीए की बैठक आयोजित करने प्रभारी प्राचार्य को कई बार लिखित एवं मौखिक रूप से कहा जा चुका है, लेकिन उनके द्वारा किसी तरह की पहल नहीं की जा रही है। इस बात लेकर पीटीए के पदाधिकारियों में भी आक्रोश है।

व्यवस्था बनाने रह रहा हूं

“स्कूल की व्यवस्था बेहतर बनाने के लिए मैं वहां निवास कर रहा हूं। यदि किसी को कोई आपत्ति है तो मैं वहां से अपना सामान अन्यत्र ले जाऊंगा। रही बात सूचना छिपाने की तो ऐसा नहीं है।” 

-विजय प्रकाश राम, प्रभारी प्राचार्य, केन्द्रीय विद्यालय जांजगीर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here