अखंड सौभाग्य की प्राप्ति के लिए महिलाओं ने आज वट सावित्री का पूजा की…

0
207

जांजगीर-चांपा। यह व्रत हर साल ज्येष्ठ माह की अमावस्या को रखा जाता है। जो इस बार 22 मई को था । धार्मिक मान्यता अनुसार जो व्रती सच्चे मन से इस व्रत को करती हैं उनकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होने के साथ उनके पति को लंबी आयु प्राप्त होती है। सुबह से ही महिलाओं श्रृंगार कर बरगद और पीपल वृक्ष की पूजा अर्चना किये इस पूजा में बांस का पंखा बरगद पेड़ लाल धागा कलश मिट्टी का दीपक मौसमी फल पूजा के लिए लाल कपड़े सिंदूर-कुमकुम और रोली चढ़ावे के लिए पकवान अक्षत हल्दी सोलह श्रृंगार व पीतल का पात्र जल अभिषेक किये चने के दाल का भोग लगाये तथा 108 फेरे लिए लॉक डाउन के कारण इस बार अलग अलग पूजा की गई।